ब्रिक्स के विकास के लिए मोदी का नया मंत्र 'सबका साथ, सबका विकास', आतंकवाद का मुद्दा फिर उठाया

ब्रिक्स के विकास के लिए मोदी का नया मंत्र 'सबका साथ, सबका विकास', आतंकवाद का मुद्दा फिर उठाया

PUBLISHED : Sep 05 , 9:22 AMBookmark and Share



चीन के शहर शियामे में चल रहे ब्रिक्स सम्मेलन का आज दूसरा और आखिरी दिन है। ब्रिक्स समिट के अाखिरी दिन मोदी ने  'डायलॉग ऑफ इमरजिंग मार्केट एंड डेवलपिंग कंट्रीज' कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। मोदी ने कहा कि  अगला दशक ब्रिक्स देशों के लिए बेहद अहम है। इसके लिए पीएम मोदी ने 'सबका साथ-सबका विकास' का नारा दिया और कहा कि यह बेहद जरूरी है।

कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आतंकवाद से मुकाबले, साइबर सुरक्षा और आपदा प्रबंधन में सहयोग और समुचित कार्रवाई पर जोर दिया। कॉन्फ्रेंस में सदस्य देशों के  नेताओं ने विकासशील देशों में बढ़ रहे बाजार पर भी चर्चा की।

इसके बाद पीएम मोदी ब्रिक्स सम्मेलन से इतर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से भी मिलेंगे। दोनों देश के नेता डोक ला विवाद के बाद आज पहली बार बैठक करेंगे। बैठक सुबह 10 बजे से होगी। उम्मीद की जा रही है कि इस मीटिंग में डोक ला पर भी बातचीत होगी। इससे पहले सोमवार को पीएम मोदी ने औपचारिक रूप से ब्रिक्स देशों के राष्ट्राध्यक्षों से मुलाकात की थी।
आतंकवाद पर भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत
ब्रिक्स सम्मेलन में पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने कल सोमवार को जोरदार ढंग से आतंकवाद का मुद्दा उठाया तो तमाम सदस्य देश उनका समर्थन करने को मजबूर हो गए। ब्रिक्स के घोषणापत्र में जोर देकर कहा गया है कि आतंकवाद को किसी हाल में और किसी भी रूप में सही नहीं ठहराया जा सकता है। खासबात ये है कि इस घोषणापत्र में पाकिस्तान के कई आतंकी संगठनों का जिक्र है उससे साफ हो गया है कि पीएम मोदी की पहल के आगे चीन अपने ‘दोस्त’ को बचा नहीं पाया। इसे आतंकवाद के मुद्दे पर भारत को बड़ी कूटनीतिक जीत मिली। चीन चाहता था कि भारत इस मंच पर पाक के खिलाफ आतंकवाद का मुद्दा न उठाए, लेकिन ब्रिक्स देशों के घोषणापत्र में आतंकवाद की कड़ी निंदा की गई है। ब्रिक्स देशों ने क्षेत्र की सुरक्षा स्थिति के साथ-साथ तालिबान, आईएसआईएस, अल-कायदा और लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद एवं हक्कानी नेटवर्क समेत इसके सहयोगी संगठनों द्वारा की जाने वाली हिंसा पर चिंता जाहिर की।

आतंकवाद की अंतरराष्ट्रीय परिभाषा तय हो

ब्रिक्स समूह ने संयुक्त राष्ट्र महासभा से आतंकवाद की अंतरराष्ट्रीय परिभाषा तय करने और इसके खिलाफ संयुक्त राष्ट्र के के वैश्विक समझौते को लागू करने का भी आह्वान किया। सम्मेलन में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन, ब्राजील के राष्ट्रपति माइकल टेमर, दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति जैकब जुमा ने आतंकवाद के खिलाफ सामूहिक कार्रवाई का समर्थन किया।

लाइफ स्टाइल

Health Tips : आजमा कर देखें, असरदार दवा है म्यूजिक...

PUBLISHED : Oct 10 , 7:06 PM

कल्पना कीजिए... सुबह-सुबह का समय... पक्षियों की चहचहाहट और हवा की मधुर सरसराहट के बीच आप भी बगीचे में ध्यान लगा रहे हैं,...

View all

साइंस

शनि के पास अब सबसे अधिक 82 चांद, वैज्ञानिकों ने की...

PUBLISHED : Oct 10 , 7:15 PM

सौर मंडल के ग्रहों में चांद की संख्या के आधार पर अब शनि ग्रह विजेता है। शनि पर वैज्ञानिकों ने 20 नए चांद पाएम जाने की पु...

View all

वीडियो

View all

बॉलीवुड

Prev Next