क्या इंसानों जैसे होंगे भविष्य के रोबोट?

क्या इंसानों जैसे होंगे भविष्य के रोबोट?

PUBLISHED : Aug 09 , 9:28 AMBookmark and Share



बीते कुछ वक़्त में मानव जैसे दिखने वाले रोबोट बनाने का ट्रेंड बढ़ा है लेकिन क्या इस तरह की मानव जैसी नज़र आने वाली मशीनों को बनाना डरावना नहीं? क्या ये भविष्य के लिए संभावित ख़तरा नहीं हैं?

हालांकि, आइज़ैक ऐसिमोव के रोबोट्स पर आधारित उपन्यास, 1980 के दशक की फ़िल्म का किरदार जॉनी 5, हॉलीवुड की फ़िल्म 'एवेंजर्सः द एज ऑफ़ अलट्रॉन' और चैनल 4 की साइंस-फिक्शन ड्रामा फ़िल्म 'ह्यूमन्स.'में रोबोट्स को मानव के बेहद क़रीब दिखाया गया है. इन फ़िल्मों में रोबोट्स के बच्चे हैं, ऐसे प्राणी हैं जो भावनाओं को और मानव जैसी चेतना को समझ सकते हैं.

लेकिन ये कितना सच है और इसकी कितनी ज़रूरत है?

डॉ. बेन गोएर्टज़ेल ने एक आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस सॉफ़्टवेयर तैयार किया है. इसके आधार पर सोफ़िया नाम के एक रोबोट को तैयार किया गया है जो मानव सदृश रोबोट है. इसे हॉन्गकॉन्ग स्थित कंपनी हैनसन रोबोटिक्स ने बनाया है.

उनका कहना है कि रोबोट्स को इंसानों की तरह दिखना चाहिए ताकि रोबोट्स को लेकर इंसान के मन में जो संदेह हैं वो दूर हों. उन्होंने बीबीसी से कहा, "आने वाले वक़्त में इंसानों जैसे रोबोट होंगे क्योंकि लोग उन्हें पसंद करते हैं."
null
आपको ये भी रोचक लगेगा

    क्या इंसानी बुद्धिमत्ता का स्वर्णयुग आ चुका है?
    एक बार में एक ही काम करना क्यों सबसे अच्छा है?
    दफ़्तरों में डिस्लेक्सिया के बारे में बात करना क्यों ज़रूरी है?
    पैसे की सीढ़ी लगाकर कतार पार करते अमीर

null.

उनके मुताबिक़, "अगर मानव जैसे दिखने वाले रोबोट होंगे तो लोग उन्हें आदेश दे सकेंगे और अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में उनसे बात कर सकेंगे."

"मुझे लगता है कि सॉफ़्टबैंक के पेपर रोबोट देखने में बहुत ही बुरे होते हैं. जबकि सोफ़िया आपकी आंखों में देखेगी और ये आपकी तरह के चेहरे भी बना सकेगी. यह बिल्कुल अलग अनुभव होगा, बजाय पेपर रोबोट की छाती पर लगे मॉनिटर पर देखने के."

फिलहाल 20 नए सोफ़िया रोबोट बनाए जा चुके हैं और इनमें से छह रोबोट पूरी दुनियाभर में इस्तेमाल हो रहे हैं. इन रोबोट्स का इस्तेमाल भाषण देने और तकनीकी का प्रशिक्षण देने के लिए किया जा रहा है.

बहुत सी कंपनियों ने अपने ग्राहकों को लुभाने के लिए सोफ़िया का इस्तेमाल करने के उद्देश्य से हैनसन रोबोटिक्स से संपर्क किया है लेकिन एक बात जो बहुत स्पष्ट है कि वो चाहे सोफ़िया हो या फिर पेपर रोबोट जैसे मानवीय रोबोट, अभी भी इनका निर्माण बहुत महंगा है और ख़ुद डॉ. गोएर्टज़ेल भी इस बात से इनकार नहीं करते हैं.

हालांकि उनकी इस बात से बहुत से रोबोटिस्ट असहमति जताते हैं.
इमेज कॉपीरइट SINGULARITYNET
क्या विद्रोही हो सकते हैं रोबोट?

इंट्यूशन रोबोटिक्स के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. स्क्युलर रोबोट के मनुष्य की तरह दिखने और बोलने की बात को सिरे से ख़ारिज करते हैं. वो इसे लेकर विरोध रखते हैं.

उनकी कंपनी एलिक्यू नाम के आकार में छोटे सामाजिक रोबोट बनाती है जिसका उद्देश्य बुजुर्गों के अकेलेपन को दूर करना है. यह रोबोट बात कर सकता है और सवालों के जवाब दे सकता है.

वो कहते है कि जो लोग एलिक्यू का इस्तेमाल करते हैं उन्हें ये याद दिलाना पड़ता है कि यह एक मशीन है कोई सच का इंसान नहीं और ऐसा करना वाकई तक़लीफदेह होता है.

वह "अनकेनी वैली" के प्रभाव को लेकर चिंता ज़ाहिर करते हैं.

रोबोटिस्ट मसाहिरो मोरी का विचार है कि रोबोट्स जितने ज़्यादा मनुष्य के क़रीब होते जाएंगे उतना ही अधिक हमें उनसे डरना होगा और उतना अधिक वे विद्रोही भी होते जाएंगे.

उनका मानना है कि नैतिक तौर पर रोबोट्स से इंसान की तरह होने की उम्मीद करना ग़लत है.
इमेज कॉपीरइट INTUITION ROBOTICS
रोबोट को होंगे कानूनी अधिकार?

इंसान को एक वक़्त पर निश्चत तौर पर एहसास होगा कि ये रोबोट हैं, असली में कुछ नहीं औऱ फिर वे ख़ुद को ठगा हुआ महसूस करेंगे.

वो कहते हैं "आपको बेवकूफ़ बनाने और जो आपको चाहिए वो आपको देने में मैं कोई संबंध नहीं देखता हूं."

"एलिक्यू बहुत ही प्यारा है और यह एक दोस्त है. अपने शोध के आधार पर हम यह तो कह सकते हैं कि यह एक सकारात्मक आत्मीयता दे सकता है और अकेलेपन को दूर कर सकता है और वो भी इंसान होने का नाटक किए बग़ैर."

कार्नेगी मेलन विश्वविद्यालय के रोबोटिक्स इंस्टीट्यूट के एक शोध प्रोफ़ेसर डॉ. रीड सिमन्स भी इस पर सहमति जताते हैं.

"हम में से बहुत से लोग मानते हैं कि एक रोबोट के लिए इतना ही बहुत है कि वो आंखें झपका सके और उसमें कुछ ख़ासियत हों. बजाय इसके की वो एकदम मानव जैसे व्यवहार करे."

"मैं इस बात का प्रबल समर्थक हूं कि हमें अनकेनी वैली जैसी स्थिति से दूर रहने की ज़रूर है क्योंकि इससे कई तरह की उम्मीदों का जन्म होगा जिसे तकनीकी किसी भी सूरत में पूरा नहीं कर सकेगी."

सिंगुलैरिटीनेट वो प्लेटफ़ॉर्म है जहां डेवलेपर्स आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस एप्स

लाइफ स्टाइल

ठंड से बचाकर आपको सेहतमंद रखेगा यह काढ़ा, जानें रेस...

PUBLISHED : Dec 07 , 9:03 PM

सबसे पहले मीडियम आंच में एक पैन में पानी उबालने के लिए रखें। पानी में उबाल आते ही अदरक का रस और तुलसी की पत्तियां डालकर ...

View all

साइंस

ISRO का नया मिशन, 11 दिसंबर को सर्विलांस सैटेलाइट ...

PUBLISHED : Dec 07 , 9:06 PM

चेन्नई: भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (ISRO) के एक अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि भारत 11 दिसंबर को सिंथेटिक एपर्चर रडार के साथ अ...

View all

वीडियो

View all

बॉलीवुड

Prev Next