विश्व का पहला व्हाइट टाइगर सफारी ओपनिंग से पहले ही घिरा विवादों में

विश्व का पहला व्हाइट टाइगर सफारी ओपनिंग से पहले ही घिरा विवादों में

PUBLISHED : Apr 01 , 5:12 PMBookmark and Share

विश्व का पहला व्हाइट टाइगर सफारी ओपनिंग से पहले ही घिरा विवादों में
 
दुनिया का पहला मुकुंदपुर व्हाइट टाइगर सफारी उद्घाटन से पहले ही विवादों में घिर गया है. सतना जिला स्थित टाइगर सफारी का नामकरण महाराजा मार्तण्ड सिंह के नाम पर किए जाने की मांग को लेकर रीवा शहर बंद रहा.
 
राजपूत रॉयल संगठन की मांग है कि सबसे पहले सफेद शेर मोहन को पालने का श्रेय रीवा के महाराज मार्तण्ड सिंह को जाता है, इसलिए मुकुंदपुर टाइगर सफारी का नाम महाराजा के नाम पर रखा जाए. जब इस मसले पर प्रशासन ने ध्यान नहीं दिया, तो संगठन के कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए और शुक्रवार को पूरा शहर बंद करा दिया ।
 
राजपूत रॉयल संगठन के अध्यक्ष संजू सिंह ने चेतावनी दी है कि, अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो वे उग्र आंदोलन करेंगे. हालांकि, उनके प्रदर्शन के दौरान पुलिस प्रशासन पूरी तरह से चप्पे-चप्पे पर मुस्तैद रहा. जिसके चलते किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना सामने नहीं आई.
राजपूत रॉयल संगठन लंबे समय से मुकुंदपुर टाइगर सफारी का नाम महाराजा मार्तण्डसिंह के नाम पर रखने की मांग कर रहा था, लेकिन मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के आश्वासन के बाद भी सफारी का नाम 'मोहन' बाघ के नाम पर कर दिया गया. इसी अनदेखी को लेकर संगठन के पदाधिकारी उग्र हो गए.
सफेद बाघ की वापसी प्रदेश के विंध्य इलाके के लिए भावनात्मक विषय है. इसकी वजह है कि वर्ष 1951 में विंध्य क्षेत्र में रीवा के महाराज मार्तण्ड सिंह ने एक सफेद बाघ शावक पकड़ा गया था, जिसका नाम मोहन रखा गया. इसी सफेद बाघ से बंदी अवस्था में प्रजनन शुरू हुआ. आज विश्व में जितने भी सफेद बाघ जीवित हैं, वे सभी सफेद बाघ 'मोहन'' और बाघिन ''राधा'' की संतानें हैं.
सतना जिले के मुकंदपुर में व्हाइट टागर सफरी और जू एंड रेस्क्यू सेंटर की शुरूआत 2016 के जनवरी माह में होने जा रही है. 643 हेक्टेयर जमीन पर फैली यह सफारी करीब 55 करोड़ की लागत से बनी है. इसमें 100 हेक्टेयर में जू एंड रेस्क्यू सेंटर व व्हाइट टाइगर सफारी तैयार की गई है.

लाइफ स्टाइल

हाई ब्लड प्रेशर से पड़ता है आपकी बुद्धि पर बुरा अस...

PUBLISHED : Mar 07 , 12:44 AM

जो युवावस्था में ही उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं उनकी बुद्धिमत्ता में अधेड़ उम्र में कमी आ सकती है। नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिट...

View all

साइंस

स्टेम सेल्स से बने ये अनोखे ‘जीवित रोबॉट’

PUBLISHED : Mar 07 , 12:42 AM

वैज्ञानिकों ने साइंस फिक्शन जैसा करिश्मा दिखाते हुए मेंढक के भ्रूण से ली गई कोशिकाओं को नए उपयोग के लिए ‘जीवित रोबॉट’ मे...

View all

वीडियो

View all

बॉलीवुड

Prev Next