भारत को अपनाने चाहिए जीएम खाद्य: शीर्ष अमेरिकी वैज्ञानिक

भारत को अपनाने चाहिए जीएम खाद्य: शीर्ष अमेरिकी वैज्ञानिक

PUBLISHED : Jul 01 , 8:49 AMBookmark and Share



नयी दिल्ली: भारत जहां आनुवंशिक रूप से रूपांतरित (जीएम) सरसों के रूप में आनुवंशिक रूप से संवर्धित पहली फसल खेतों में लाने या न लाने को लेकर रस्साकशी में उलझा है, वहीं एक शीर्ष अमेरिकी जेनेटिक इंजीनियर और भारत सरकार के सलाहकार भारत में एक बायोटेक दिग्गज के रूप में उभरने की क्षमताओं को रेखांकित रहे हैं।
इंदर वर्मा कैलिफोर्निया स्थित प्रसिद्ध सॉक इंस्टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल साइंसेज में काम करते हैं और जीन थेरेपी एवं कैंसर रिसर्च के पुरोधा हैं। उनका मानना है कि जीएम सरसों भारत के लिए अच्छी है क्योंकि यह खाद्य तेल के आयात का खर्च कम कर सकती है। वह एक भारतीय कंपनी द्वारा जीका वायरस के खिलाफ टीका विकसित किए जाने से भी उत्साहित हैं। इस समय वर्मा अमेरिकी विज्ञान जर्नल ‘द प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज (पीएनएएस) के संपादक हैं।

उनके साक्षात्कार के अंश इस प्रकार हैं- प्रश्न- भारत जीएम सरसों को लाने या न लाने के असमंजस में है। इसपर काफी बहस है। उच्चतम न्यायालय में भी एक याचिका लंबित है। क्या आपको लगता है कि भारत को किसान के खेतों में जीएम सरसों लानी चाहिए? उत्तर- मेरा मानना है कि जीएम खाद्य बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि दुनिया बड़ी हो रही है, ज्यादा लोग पैदा हो रहे हैं और हमें एक बेहतर गुणवत्ता वाले भोजन की जरूरत है। मैं जीएम खाद्य का एक बड़ा समर्थक हूं क्योंकि मुझे लगता है कि यदि आप दुनिया का पेट भरना चाहते हैं तो ये एक अनिवार्य जरूरत हैं।

प्रश्न- तो क्या भारत को जीएम खाद्य को अपना लेना चाहिए? उत्तर- मेरी राय में, भारत को जेनेटिक इंजीनियरिंग को अपनाना चाहिए क्योंकि जमीन सीमित है, पानी सीमित है और उर्वरक भी सीमित ही हैं। ऐसे में इतने सारे लोगों का पेट भरने का एक ही तरीका है..ऐसा आनुवंशिक रूप से संवर्धित पौधों के जरिए ही किया जा सकता है। जीएम सरसों ऐसा ही एक पौधा है क्योंकि यह कम पानी का इस्तेमाल करता है और उत्पाद ज्यादा देता है। तो निश्चित तौर पर यह भारत के लिए महत्वपूर्ण है।

प्रश्न- हाल ही में एक भारतीय कंपनी भारत बायोटेक लिमेटेड (हैदराबाद) के जीका वायरस के लिए टीका (कैंडीडेट वैक्सीन) खोजने वाली दुनिया की पहली कपंनी बनने की घोषणा की गई थी। कृष्णा ईला के नेतृत्व वाली इस कंपनी के पास इसपर दो पेटेंट भी हैं। एक मॉलिक्युलर बायोलॉजिस्ट (आणविक जीव विज्ञानी) के तौर पर क्या भारत का बढ़त हासिल करना आपको उत्साहित करता है? उत्तर- मैं बेहद उत्साहित हूं। खासतौर पर इसलिए क्योंकि मैं जानता हूं कि कृष्णा ईला काफी समय से इसपर काम कर रहे थे। वह हेपेटाइटिस वायरस और रोटा वायरस पर काम कर चुके हैं। ऐसे में अगर वे कहते हैं कि ऐसा एक जीका का टीका विकसित किया गया है तो मुझे लगता है कि यह शानदार है।

यह दिखाता है कि बौद्धिक क्षमता होने पर किस तरह से सभी देश भागीदारी कर सकते हैं। यह एक अच्छी मिसाल है। इस समय दुनिया को जीका वायरस का टीका चाहिए, खासतौर पर इसलिए क्योंकि ब्राजील में ओलंपिक खेलों का आयोजन होने जा रहा है। मैं वाकई इस बात को लेकर उत्साहित हूं कि यदि ऐसा टीका वहां होता है और प्रभावी साबित होता है तो यह शानदार होगा।

प्रश्न- क्या जीका वायरस का टीका भारतीय कंपनी द्वारा विकसित किया जाना एक बड़ी छलांग है? उत्तर- जब मैंने इस खबर को पहली बार पढ़ा, तो मैं बहुत खुश था क्योंकि भारत ने ऐसा एक टीका बना लिया था, जिसके बारे में दूसरे देश सिर्फ सोच ही रहे थे। भारत बायोटेक जीका वायरस का टीका इसलिए विकसित कर सकी क्योंकि उसके पास व्यापक अनुभव है।

इससे पहले वे कई अन्य वायरसों के लिए भी टीके बना चुके हैं, जिनमें चिकुनगुनिया और रोटा वायरस शामिल हैं। यदि टीका किए जा रहे दावों के अनुरूप अच्छा साबित होता है तो कई लोग इस बात से प्रभावित होंगे कि भारत ऐसा शीर्ष स्तर का टीका विकसित कर सकता है।

लाइफ स्टाइल

हड्डियां कमजोर क्यों हो जाती हैं, मजबूत हड्डियों क...

PUBLISHED : Oct 22 , 10:53 AM

Food For Strong Bones: धूप से बचने की प्रवृत्ति, कैल्शियम की कमी (Calcium Deficiency) और खराब जीवनशैली के कारण लोगों में...

View all

साइंस

20 साल के स्टूडेंट ने किया कमाल, आलू से बनाई डिग्र...

PUBLISHED : Oct 22 , 11:03 AM

चंडीगढ़: चंडीगढ़ की चितकारा यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट प्रनव गोयल ने आलू में मौजूद स्टॉर्च से प्लास्टिक जैसी एक नई चीज बनाई...

View all

वीडियो

View all

बॉलीवुड

Prev Next