सीएम शिवराज के लिए मंत्रिमंडल विस्तार बना मुसीबत, अपनों की नाराजगी से भाजपा में दरार

सीएम शिवराज के लिए मंत्रिमंडल विस्तार बना मुसीबत, अपनों की नाराजगी से भाजपा में दरार

PUBLISHED : Jul 03 , 11:22 AMBookmark and Share

सीएम शिवराज के लिए मंत्रिमंडल विस्तार बना मुसीबत, अपनों की नाराजगी से भाजपा में दरार
 
मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान बतौर मुख्यमंत्री 10 वर्ष से ज्यादा वक्त गुजार चुके हैं, मगर पहली बार वो 'अपनों की नाराजगी' के चलते मुसीबत में पड़ते नजर आ रहे हैं. उनके तीसरे कार्यकाल में ढाई साल बाद हुए मंत्रिमंडल विस्तार से कम ही लोग खुश हैं और ज्यादा में नाराजगी है.
 
मंत्रिमंडल विस्तार में नौ विधायकों को स्थान दिया गया है, वहीं दो बुजुर्ग मंत्रियों बाबूलाल गौर और सरताज सिंह को इसलिए मंत्रिमंडल से बाहर किया गया, क्योंकि दोनों की उम्र 75 पार है. इतना ही नहीं, दूसरे दलों में रहे और अब भाजपा के विधायक बने संजय पाठक और हर्ष सिंह को राज्यमंत्री बनाया गया है.
उम्र के आधार पर दो मंत्रियों की छुट्टी और दो कांग्रेस विचारधारा के परिवारों के सदस्यों को मंत्री बनाए जाने से भाजपा में अंदरूनी दरार आ गई है. गौर और सरताज सिंह ने तो खुलकर पार्टी के फैसले पर सवाल खड़े कर दिए हैं.
 
गृहमंत्री रहे गौर का कहना है कि उनका अपमान किया गया है. उन्होंने सवाल किया कि क्या मां-बाप बुजुर्ग हो जाएंगे तो उन्हें परिवार से बाहर कर दिया जाएगा? वहीं सरताज सिंह अपनी सक्रियता का हवाला देते नहीं थक रहे हैं.
 
भाजपा के वरिष्ठ नेता रघुनंदन शर्मा ने भी इन दोनों नेताओं का साथ दिया है और कहा कि पार्टी को इस तरह मंत्रियों को पद से हटाने का फैसला नहीं करना चाहिए था और उनके सम्मान का ख्याल रखा जाना चाहिए था.
 
खास बात ये है कि भाजपा का मार्गदर्शक संगठन यानी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) भी इस बदलाव से नाराज है. यही कारण है कि मुख्यमंत्री चौहान, प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह और संगठन मंत्री सुहास भगत को संघ कार्यालय जाकर सफाई देनी पड़ी है. हालांकि, संगठन इसे सामान्य और शिष्टाचार बैठक करार दे रहा है.
 
एक तरफ वे नेता नाराज हैं, जिन्हें मंत्री पद से हटाया गया है तो दूसरी ओर वे विधायक नाराज हैं, जिन्हें दावेदार होने के बावजूद मंत्री नहीं बनाया गया है. इनमें विधायक प्रदीप लारिया भी हैं, जिन्होंने अनुसूचित जाति को महत्व न दिए जाने की बात कहते हुए मुख्यमंत्री को पत्र लिख डाला है.
 
बताया जा रहा है कि मालवा अंचल से कई विधायकों ने नाराजगी जताई है, क्योंकि इस क्षेत्र से एक भी विधायक को मंत्रिमंडल विस्तार में जगह नहीं मिली है.

लाइफ स्टाइल

Health Tips : आजमा कर देखें, असरदार दवा है म्यूजिक...

PUBLISHED : Oct 10 , 7:06 PM

कल्पना कीजिए... सुबह-सुबह का समय... पक्षियों की चहचहाहट और हवा की मधुर सरसराहट के बीच आप भी बगीचे में ध्यान लगा रहे हैं,...

View all

साइंस

शनि के पास अब सबसे अधिक 82 चांद, वैज्ञानिकों ने की...

PUBLISHED : Oct 10 , 7:15 PM

सौर मंडल के ग्रहों में चांद की संख्या के आधार पर अब शनि ग्रह विजेता है। शनि पर वैज्ञानिकों ने 20 नए चांद पाएम जाने की पु...

View all

वीडियो

View all

बॉलीवुड

Prev Next